Home मध्य-प्रदेश नशामुक्त भारत अभियान भोपाल सहित 15 जिलों में

नशामुक्त भारत अभियान भोपाल सहित 15 जिलों में

380

सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण मंत्री श्री प्रेम सिंह पटेल ने बताया कि नशामुक्त भारत अभियान के तहत प्रदेश के 15 जिलों में 15 अगस्त से छ: माही क्रियान्वयन शुरू किया गया है। अभियान में देशभर के 272 जिलों का चयन किया गया है, जिनमें प्रदेश के भोपाल, छिंदवाड़ा, दतिया, ग्वालियर, होशंगाबाद, इंदौर, जबलपुर, मंदसौर, नरसिंहपुर, नीमच, रतलाम, रीवा, सागर, सतना और उज्जैन जिले शामिल हैं। जिलों का चिन्हांकन नशीले पदार्थ और शराब से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों के विरुद्ध किये गये राष्ट्रीय सर्वेक्षण के आधार पर किया गया है।

अभियान के तहत संबंधित जिलों में कलेक्टर की अध्यक्षता में समितियाँ गठित की गई हैं, जिनमें पुलिस, विधि, शिक्षा, महिला एवं बाल विकास, सामाजिक न्याय आदि विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों और सेवानिवृत्त प्रशासनिक अधिकारियों को शामिल किया गया है। नशे के आदी हो चुके लोगों को नशामुक्त करने के साथ अभियान का सर्वोच्च उद्देश्य भावी पीढ़ी को नशे की गिरफ्त में आने से बचाना है।

जिला-स्तर पर गठित समितियाँ नशामुक्त अभियान के क्रियान्वयन, विद्यार्थी, शिक्षक और अभिभावकों के मध्य जन-जागरूकता कार्यक्रम, कॉलेजों में स्टुडेंट क्लब का गठन, चिन्हित नशा पीड़ित लोगों को पुनर्वास केन्द्रों और अस्पतालों में काउंसिलिंग एवं उपचार के लिये ले जाना, जिलों में दी जा रही काउंसिलिंग और उपचार सुविधाओं की सतत निगरानी, शैक्षणिक संस्थाओं के 100 मीटर के दायरे में सिगरेट की बिक्री न हो, सुनिश्चित करना, ड्रग्स की उपलब्धता और विक्रय की जानकारी मिलते ही इसके विरुद्ध कार्रवाई सुनिश्चित करवाना, संबंधित लोगों को प्रशिक्षण दिलाना, अभियान में जन-सहयोग बढ़ाना, सोशल मीडिया के माध्यम से नशे के विरुद्ध जागरूकता बढ़ाना आदि शामिल हैं। समिति समय-समय पर प्रमुख सचिव, सामाजिक न्याय की अध्यक्षता में गठित राज्य-स्तरीय समिति को फीडबैक भी देगी।

केन्द्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा कराये गये राष्ट्रीय सर्वेक्षण के अनुसार भारत में लगभग 16 करोड़ लोग शराब, 3.1 करोड़ भांग, 2.26 करोड़ अन्य नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं। अभियान में शामिल जिलों में राजस्थान और उत्तर प्रदेश के 33-33, पंजाब के 18, मध्यप्रदेश के 15, झारखण्ड के 12, दिल्ली के 11 क्षेत्र, उड़ीसा, हरियाणा, जम्मू-काश्मीर के 10-10, मणिपुर और आसाम के 9-9, अरुणाचल प्रदेश, बिहार और गुजरात के 8-8, कर्नाटक और केरल के 6-6, आंध्रप्रदेश, हिमाचल प्रदेश, मेघालय, महाराष्ट्र और मिजोरम के 4-4, नागालैण्ड और छत्तीसगढ़ के 3-3 जिले, दमन और दीव और केन्द्रशासित प्रदेश चण्डीगढ़ हैं।

सुनीता दुबे

 Post a Comment

संबंधित समाचार

कृषि अधोसंरचना कोष बदलेगा कृषि और किसानों की दशा
भोपाल एवं इंदौर मेट्रो का कार्य तेज गति से गुणवत्तापूर्ण किया जाए
एनआरए के तहत निर्णय लेने वाला मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य
विद्यार्थियों के लिए घर बैठे ही पढ़ाई एवं मध्यान्ह भोजन की व्यवस्था है
इंदौर लगातार चौथी बार बना देश का स्वच्छतम शहर
  • संचालनालय
  • संभाग
कृषि अधोसंरचना कोष बदलेगा कृषि और किसानों की दशा
नशामुक्त भारत अभियान भोपाल सहित 15 जिलों में
रावतपुरा सरकार से मंत्री डॉ. मिश्रा ने की भेंट
आबकारी मामलों के लिये गठित मंत्रिपरिषद समिति की बैठक
प्रदेश के दिव्यांग पैरा-स्वीमर श्री सतेन्द्र सिंह को राष्ट्रपति देंगे तेनजिंग नॉरगे राष्ट्रीय अवार्ड
केलीग्राफी एंड ग्राफिक डिजाइन सेंटर में प्रवेश की अंतिम तिथि 27 अगस्त
होशंगाबाद में 1 दिन में ही 25 कोरोना पॉजिटिव स्वस्थ होकर डिस्चार्ज
शिक्षा एवं स्वास्थ्य विषय पर मंत्री समूह की बैठक में आये महत्वपूर्ण सुझाव
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्व. गौर को आदरांजलि दी